॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

Archive for the ‘Recepy’ Category

मसाला केप्सिकम और जास्मीन तेल

Posted by सागर नाहर on 11, अप्रैल 2010

चौंक  गए ना ऐसा अजीबोगरीब शीर्षक पढ़ कर.. !

पिछले साल खाना बनाने के कटु अनुभव के बाद सोच लिया था कि इस बार पहले से ही तैयारी कर लेनी पड़ेगी, और हर्ष भी इस बार गाँव नहीं जाने की जिद कर रहा है। सो हम दोनों के पेट का बंदोबस्त तो करना ही होगा। सो इस बार पूर्व तैयारी के चलते यदा कदा सब्जी वगैरह बनाता रहता हूं। कई सब्जियों में तो अच्छी खासी मास्टरी हो गई है।

परसों जो सब्जी घर में बनी थी वो जरा कम पसन्द होने की वजह से मैने शिमला मिर्च बनाने का निश्चय किया। तिल, नारियल, मूंगफली और खसखस की बढ़िया ग्रेवी और फिर टमाटर प्यूरी आदि डाल कर एकदम बढ़िया सब्जी बना ली।

सब्जी जब बनने को आई तो मैने मसाले चखने के लिहाज से एक चम्मच सब्जी, गैस के पास की खिड़की में में रखी कटोरी में ले ली, और जैसे ही चखने के लिये उसे उठाया तो उसमें थोड़ा पानी दिखा। मैने सोचा पानी से मसाले का सही पता नहीं चलेगा सो मैने उस कटोरी वाली सब्जी को पानी सहित कढ़ाई में डाल कर हिला दिया। तभी अचानक मुझे सब्जी में से कुछ अजीब सी गंध आने लगी। श्रीमती जी को बुलाया तो उन्हें भी उस अजीब सी गंध से आश्‍चर्य हुआ। तभी पास में रखी कटोरी को देख कर पूछा इसमें सब्जी कैसे आई? मैने कहा मैने चखने के लिए ली थी पर उसमें पानी था इसलिये मैने वापस कढ़ाई में डाल दी।

श्रीमती जी अपने सर पर हाथ रख कर बोली है भगवान! ये आपने क्या किया? ( भगवान मुझे नहीं कहा था :) ) मैने पूछा क्यों क्या हुआ?

उन्होने कहा अरे! आज सुबह पेराशूट जास्मीन हेर ऑइल के दो पाऊच खॊले थे और पाउच में बहुत सा तेल दिख रहा था सो पाऊच को इन पर उल्टा रख दिया था जिससे धीरे धीरे तेल इस कटोरी में जमा हो जाये। मैने कहा जब मैने देखा था तब खाली पाऊच नहीं थे तो उन्होने कहा उन्हें तो अभी पांच मिनिट पहले ही मैने कचरे में डाले थे और कटोरी को बॉटल में खाली करने जा ही रही थी कि सब्जी वाला आ गया तो पहले सब्जी लेने चली गई……

अब इतनी मेहनत से बनाई सब्जी को फेंकने की हिम्मत जुटाने से पहले सोचा एक चम्मच खा कर देखने में क्या हर्ज है शायद खाने लायक हो!

बस यहां से एक नई परेशानी हो गई। मैने फुलके (रोटी) का एक कौर तोड़ कर सब्जी के साथ खाया कि उबाईयां आने लगी…उल्टी होते होते बची।  सब्जी में से जास्मीन तेल की गंध….!!! उधर गैस चालू था और सब्जी में तेल मिक्स हो कर पूरे घर में जास्मीन तेल की महक आने लगी। पूरे दिन जास्मीन तेल की दकारें आती रही ।  आज उस बात को तीन दिन हो गये हैं पर मेरे दिमाग में से वो गंध नहीं निकल रही घर में. खासकर रसोई में तो जाना भी दु:भर सा हो गया है। घर में कोई सिर में जास्मीन तेल लगाता है तो मैं बैचेन हो जाता हूं।

आखिरकार इतनी मेहनत से बनाई सब्जी अपने ही हाथों से फेंक देनी पड़ी। भगवान ये मेरे साथ ही क्यों होता है?

Posted in सामान्य, My Cooking Experience, Recepy | 18 Comments »

मक्काई का हलवा: एक अनाड़ी रसोईये की स्वीट रेसेपी

Posted by सागर नाहर on 4, अक्टूबर 2009

अनाड़ी इसलिए लिखा कि आप सब मेरे पाक कला ज्ञान से अच्छी तरह से वाकिफ़ है। मेरे बनाए खाने का क्या-क्या हाल हुआ। लेकिन इन गर्मियों की छुट्टियों में लगन से खाना बनाना सीखा और सब्जी-रोटी बिना किसी गलती के एकदम सही बनाई भी।

पिछले दिनों फेसबुक पर मैने अपने हाथों से बनाए मक्‍के के हल्वे का फोटो लगाया तो   बहुत से मित्रों ने उसकी रेसेपी पूछी, तो मैं आज आप सभी के लिए मक्‍काई का हल्वा बनाने की विधी पेश कर रहा हूँ। इस  स्वादिष्‍ट हलवे को राजस्थानी में “जाजर्यो/ जाजरियो” कहते हैं।


बनाने से पहले ध्यान देने योग्य बातें:
मक्‍काई का हल्वा बनाने के लिए अन्य मिठाईयों की तुलना में अधिक मेहनत और समय लगता है।

सामग्री:
6 हरे और कोमल दानों वाले देशी ( स्वीट कोर्न नहीं) भुट्टे, जिनके दानों को नाखुन से दबाने पर दूध निकलता हो।
शुद्ध घी 200 ग्राम, शक्कर 200 ग्राम ( स्वादानुसार कम या ज्यादा की जा सकती है)
काजू, किशमिश और अपने मनपसन्द कटे हुए सूखे मेवे 1 कप, 1 लीटर पानी

बनाने से पहले की तैयारी।
भुट्टों को छील लें और ध्यान रखें कि उसमें भुट्टे की मूछें (बाल) ना रहने पाये
भुट्टों को छलनी या किसनी पर किस लें, ध्यान रखें कि मक्की के छिलके किसते नीचे ना जायें वैसे छिलका ऊपर जाली में रह जाता है, उसे निकालते जायें और फेंक दे।

विधी:

  • एक मोटे पैंदें वाली कड़ाही में घी तेज गर्म करें जब घी अच्छी तरह गर्म हो जाये किसी हुई मक्‍का को घी में डाल दें और चम्मच या खुरपे से हिलाते जाएं। इस दौरान गैस की आँच एकदम धीमी रखें, आपको कम से कम 45-50 मिनिट तक इसे हिलाते रहना पड़ेगा, हिलाते समय चम्मच बिल्कुल रुके नहीं वर्ना हल्वा चिपक जायेगा और जल जायेगा। चित्र क्रमांक 1-2
  • अब इसमें से पानी उड़ जायेगा और घी भी गायब हो जायेगा और यह एकदम सूख जायेगा मानों आप मक्की की सूजी को भून रहे हों। इस समय तेज खुशबु भी आने लगेगी। पदार्थ का रंग लाल होने लगेगा, अभी कुछ देर और सेकें। चित्र-3
  • अब दूसरे गैस पर पानी गर्म करें,  पानी उबलने  तक गर्म करें चित्र-6
  • पहले वाले गैस पर हलवा एकदम लाल होने लगे (चित्र-4) ध्यान रखें कि जल कर काला ना हो जाये,  तब खौलता हुआ गर्म पानी उसमें सावधानी से डाल दें, और अब धीरे धीरे हिलाएं लेकिन रुके नहीं वर्ना गांठे पड़ जायेंगी।चित्र-5
  • कुछ देर में पानी उड़ने लगेगा अब आप इसमें सूखे मेवे डाल दें, और हिलाते रहें। चित्र 7
  •  जब पानी एकदम उड़ जाये आप इसमें चीनी डाल दें। चित्र 8-9
  • कुछ देर और हिलायें जब शक्कार घुल जायेगी वापस अपने आप घी दिखने लगेगा। अगर आपको यहाँ घी कम दिखता है तो और अगर आपका स्वास्थय इजाजत दे तो थोड़ा घी और डालें। चित्र 10-11-12
  • बस हल्वा तैयार है, गर्मा-गर्म परोसें और सूखे मेवों की सजावट करें और खाएं। यह गर्म तो स्वादिष्‍ट लगता है ही, ठंडा होने पर भी अच्छा लगता है। चित्र 13
  •  

    यहाँ भी दाल रोटी चावल

Posted in सामान्य, My Cooking Experience, Recepy | 19 Comments »

अब पता चला बच्चू!

Posted by सागर नाहर on 19, मई 2009

श्रीमतीजी गर्मी की छुट्टियां मनाने गाँव गई है बच्चों को साथ लेकर!  दो साल बाद गई है सो कह कर गई है कि डेढ़ महीने से पहले नहीं आने वाली, इधर अपनी हालत यहां पतली होती जा रही है।

जब निर्मला यहां थी, और मैं किसी काम से घर जाता; किसी भी समय तो वे या तो रसोई में कुछ काम कर रही होती या बर्तन मांज रही होती या फिर और कोई काम कर रही होती। कभी फुर्सत से पढ़ते लिखते  या कम से कम टीवी देखते भी नहीं पाया।
मैं रोज  उन पर चिढ़ जाता था।

पता नहीं जब देखो काम काम, हमेशा किचेन में या बाथरूम में घुसी रहती हो, काम है कितना बस खाना बनाना,  कपड़े धोना, पोछा लगाना घर की साफ सफाई रखना…और, और, और। पता नहीं कितना धीरे धीरे काम करती हो।  बस इतने से काम को करने के लिये तुम्हारे लिये समय कम पड़ता है!

पर अब जब वे यहां नहीं है तो पता चलता है कि कितना मुश्किल होता है, सुबह छ: साढ़े छ:  उठ कर  घर का काम शुरु करता हूं। पर काम है कि पूरा होता ही नहीं।
खाना बनाना सीखने के लिये घर के सब लोग दबाव डालते थे तब कहता था इसमें सीखना क्या? बस आटा गूंदो और रोटी बेल कर सेको। सब्जी तो यूं यूं बन जाती है।
यह  जितना आसान लगता था  आज जब आन पड़ी है तो उतना ही मुश्किल। आटा गूंदना कोई आसान काम नहीं दस दिन में चार बार तो आटे में पानी ज्यादा पड़ गया और उसे बराबर करने के लिये दो समय के खाने जितना आटा हो गया।  एक बार आटा इतना कड़क हो गया मानो रोटियांनहीं पापड़ बनाने हों।

इधर जब रोटी बेलता हूं तो तवे की रोटी जल जाती है, तवे की रोटी को संभालता हूं तो दूसरे गैस पर रखी सब्जी बढिया सी नये रंग की बन जाती है, ये रंग मेरे चेहरे से थोड़ा ही हल्का  होता है, कभी तो मेरे चेहरे के रंग को मात देती सब्जियां भी बन जाती है।
एक काम करता हूं तो दूसरा रह जाता है, कभी रोटी कच्ची रह जाती है तो कभी नई रोटी बेल नहीं पाता और तवा खूब गरम हो जाता है नई रोटी डाली नहीं कि तवे से चिपकी नहीं।

चलो जैसे तेसे खाना बन गया है, अरे अभी तो  तीन दिनों के कपड़े धोने है, और आठ बजने आई। मन कहता है क्या करूं कपड़े कल धोंऊं? लेकिन कल फिर चार जोड़ी हो जायेंगे, चार जोड़ी धोते धोते तो कमर टूट जायेगी।और फिर कल खाने का क्या होगा? मन मसोस कर एक जोड़ी कपड़े धोता हूं। अरे  आज तो झाड़ू भी नहीं लगा,  पोछा तो दस दिन में एक बार लगा! है भगवान क्या क्या करूं? अभी तो खाना बनाया उसके बरतन भी मांजने हैं। चलो जाने दो सब काम छोड़ देता हूं, कल खाना होटल में खा लूंगा।  दुकान खोलने में   ज्यादा देर हुई तो ग्राहक चिढ़ेंगे।

कितना आसान है ना पत्नियों पर चिढ़ना। है ना ?

:)

यह पोस्ट लिखने के बाद आज सुबह बनाई हुई तुरई की सब्जी खाने बैठा तो पता चला कि नमक दोनो ( शायद दो दिनों के) समय की सब्जी का तुरई की सब्जी में ही डाल दिया है, भला हो कि रात को दही जमा दिया था सो उससे खाना का लिया गया। वरना दौ कौर खाने के बाद तो जीभ पर नमक की वजह से छाले पड़ गये हैं।

Posted in अनुभव, हास्य व्यंग्य, My Cooking Experience, Recepy | 36 Comments »

रूठी-रूठी सजनी मनाऊं कैसे…?

Posted by सागर नाहर on 30, सितम्बर 2006

पत्नी को कैसे खुश रखें इस विषय पर अनेक लेख पढ़ने के बाद हमें पता चला कि जिस तरह पति के दिल का रास्ता उनके पेट से हो कर जाता है, उसी तरह पत्नी के दिल में जाने का रास्ता रसोईघर से हो कर जाता है। यानि आप कुछ पकवान बना कर उन्हें खिलायें तो फ़िर सजनी रूठी रह ही नहीं सकती; और यही अगर यह काम उन्हें सरप्राईज के तौर पर कर चौंका दिया जाये तो रूठी सजनी के मान जाने के १०० प्रतिशत चांस है। तो साहब हम भी एक दिन किसी बात पर पत्नी के साथ मनमुटाव हो जाने पर उन्हें मनाने की कोशिश में इस सिद्धान्त को प्रयोग में लाने की कोशिश कर बैठे, और इस प्रयोग का निष्कर्ष कुछ इस तरह से निकला कि पत्नी मानने की बजाय ……ऐसे कठिन प्रश्न मत पूछिये प्लीज ।

सबसे पहले तो पाक शास्त्र की किताबों को कुछ दिन तक छुप छुप कर पढ़ा, और अन्तरजाल पर सारे पाक कला वाले जालस्थलों की खाक छान कर नमक और पिसी शक्कर तथा हल्दी और धनिये के पाऊडर में फ़र्क अच्छी तरह समझ लिया। एक दिन जब मोहतरमा किसी काम से बाजार गई हुई थी तब हमने मौका देख कर अपने उस सारे ईन्टरनेटिये ज्ञान को आजमाने का निश्चय कर लिया।
सबसे पहले कुछ ” मीठा हो जाये” की तर्ज पर हमने हलवा बनाने का निश्चय किया, अब संयोग से उस समय पुस्तक कहीं मिल नहीं पाई और हमने अपने मन से ही डरते- डरते हलवा बनाने की तैयारी कर ली, गेहुँ का आटा कढ़ाई में लेकर उसे सेकने लगे अब हड़बड़ाहट में यह याद नहीं आया कि घी को आटे को सेकने से पहले डालते है सिकने के बाद या आटे के साथ? सो हम आटे को बिना घी डाले ही सेकने लगे और जब आटे के सिकने की खुशबु आने लगी तो हमने घबरा कर की कहीं ज्यादा सिक जाने पर जल ना जाये; घी की बजाय़ पास में पड़ी गिलास में से पानी कढ़ाई में डाल दिया फ़िर थोड़ी देर के बाद जब पानी सूखने लगा हमने हलवे को पौष्टिक बनाने के लिहाज से चार बड़े चम्मच भर कर घी कढ़ाई में डाल दिया और बाद में चीनी भी डाल दी।

और……. तभी एक बड़ी गड़बड हो गई और पत्नी घर वापस आ गयी, और रसोई में से आते हलवे की महक (आप कुछ भी कहो हम तो महक ही कहेंगे!) से सीधी रसोई में चली आयी और रसोई में बिखरे बर्तनों और बने हलवे को देख अपना माथा ठोक लिया। हमने बड़ी मासूमियत से उन्हे पूछा क्या हुआ? उन्होने कहा “मेरा सर”। हमने चुपचाप रसोई से बाहर निकलने में ही अपनी भलाई समझी।

थोड़ी देर बाद पत्नी एक प्लेट में हमारा बनाया हुआ हलवा ले कर आयी और हमसे बड़े प्यार से हलवे को खाने के लिये आग्रह करने लगी, हम उनके चेहरे पर छाई मुस्कुराहट को देख कर और अपने प्रयोग को सफ़ल मान कर उन सारे अन्तरजाल पर पाक विधियाँ लिखने वाले लेखकों को मन ही मन धन्यवाद देते हुए एक चम्मच भर कर हलवा अपने मुँह में रखा और, अरे यह क्या यह तो हलवे की बजाय लाई बन गई थी जिससे हम बचपन में अपनी फ़टी किताबें चिपकाया करते थे, हमारे बिगड़े चेहरे को देख कर पत्नी जोर- जोर से हँसने लगी और फ़िर उस दिन उन्होने हमें पास में बिठाकर हलवा बनाना सिखाया।

एक दिन फ़िर से मौका मिला इस बार पत्नी बाथरूम में थी और हमने नाश्ता बनाने का निश्चय किया। इस बार हमने मीठे की बजाय कुछ नमकीन बनाने का सोचा और सुबह का समय था तो हमें लगा  उपमा सही रहेगा, इस बार हमने कोई गलती नहीं की। घी में बराबर सूजी को सेंक लिया, जब सूजी सिक गई और गुलाबी की जगह काले रंग की होने लगी हमने एक बार फ़िर से पानी डाल दिया, अब पानी कितना डाला था?….. यार आपसे कितनी बार कहा है इतने मुश्किल सवाल मत पूछा करें; पर आप भी कहाँ मानने वाले हो!


थोड़ी देर बाद पानी सूख जाना चाहिये था पर पानी नहीं सूखा और पत्नी बाथरूम से बाहर आ गई और हमारे बने सूजी की महक से खुश होते हुए हमसे पूछा,

“क्या बना है नाश्ते में?”
हमने कहा “उपमा”
उन्होने सोचा कि उन्होने हलवा बनाना सिखाया था अत: उपमा भी सही बनाया होगा तो उन्होने रसोई में आकर हमारे बने उपमे को देखा और एक बार फ़िर से सर ठोक लिया, इस बार हमसे “क्या हुआ” पूछने की हिम्मत नहीं रही क्यों कि हमें पता था कि इस बार हमने उपमे की जगह राब यानि तरल उपमा बना दिया था, जिसे खाने की बजाय कप में भर कर पीया जा सकता था। इस बार तो हमारे इस नये पकवान का नामकरण भी नहीं हो पाया और सारा का सारा हमारे हाथों से ही फ़ैंक देना पड़ा, फ़ैंकते समय हमारे मन की हालत का आप अन्दाजा भी नहीं लगा सकते।
एक बार वेब दुनियाँ पर सोन पापड़ी की विधी देखकर काले रंग की एकदम सख्त बर्फ़ी भी बनाई है, जिसे खाने की कोशिश में मेरा दाँत शहीद होते होते बचा है, तो एक बार बरतन मांजने की कोशिश भी करी, पर नाकामयाब रहे। एक बार पोछा लगाने का मन हुआ और पानी में फ़िनाईल की बजाय सिरका भी डाला है। हुँ ना मैं मासूम! कभी कभी लगता है महिलायें सच कहती हैं कि पत्नियों को अपने पति को इन्सान बनाने में बड़ी मशक्कत करनी पड़ती है।

परन्तु मित्रों मैंने भी निश्चय कर लिया है कि एक दिन मैं अपनी पत्नी को अपने पाक ज्ञान का लौहा मनवा कर रहूँगा। जब अटल जी बिना विवाह किये भी गा सकते हैं ” हार नहीं मानूंगा…” तो मैं क्यों नहीं?
क्या आप भी अपनी रूठी सजनी को मनाना चाहते हैं? हमारे अनुभवों का लाभ जरूर लें।

Posted in हास्य व्यंग्य, My Cooking Experience, Recepy | Tagged: , | 5 Comments »

 
Follow

Get every new post delivered to your Inbox.