॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

ऋषिकेश मुखर्जी ( ऋषि दा) अब नहीं रहे

Posted by सागर नाहर on 27, अगस्त 2006

मेरी सबसे ज्यादा पसंदीदा फ़िल्म अनुराधा, बावर्ची, गुड्डी, नमक हराम,आनंद  और सत्यकाम जैसी फ़िल्मों के महान निर्देशक ऋषिकेश मुखर्जी का आज निधन हो गया। उनके जाने के साथ ही हमने सामाजिक समस्याओं पर हल्की फ़ुल्की फ़िल्म बनाने वाले निर्देशक को हमने खो दिया है, भगवान ऋषि दा की आत्मा को शान्ति प्रदान करें!

Advertisements

8 Responses to “ऋषिकेश मुखर्जी ( ऋषि दा) अब नहीं रहे”

  1. Tarun said

    ऋषिकेश मुखर्जी मेरे भी पंसदीदा फिल्मकार थे, सादगी से भी अच्छी और मनोरंजक फिल्म बनायी जाती है कोई उनसे सीखे। उनको मेरी विनम्र श्रद्धांजलि

  2. ऋषि दा को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि

  3. विनम्र श्रद्धांजली.

  4. kali said

    He lives on in his body of work.

  5. ऋषिकेश मुखर्जी का स्वर्ग्वास फ़िल्म जगत और उनके चाहने वालों के लिये एक बड़ी क्षति है। ऐसे महान निर्देशक को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।

  6. विनम्र श्रद्धांजलि !

  7. ह्रषीकेश दा के सम्बन्ध में मेरे चिट्ठे पर टिप्पणी के लिये आपका धन्यवाद.

  8. Pramendra Singh said

    ऋषि दा को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: