॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

ब्रह्माण्ड की उत्पति के सिद्धांत पर कुछ सवाल ?

Posted by सागर नाहर on 28, अगस्त 2006

पिछले दिनों विज्ञान विश्व नाम के नये चिट्ठे पर ब्रह्माण्ड की उत्पति पर प्रचलित कुछ सिद्धान्तों पर विस्तृत विवरण दिया था, पढ़ कर बहुत मजा आया पर जिज्ञासु मन में कई सवाल भी पैदा हो गये हैं, अगर कोई इन सवालों का जवाब दे सके तो  मेहरबानी होगी।

  1. अगर बिग बैंग हुआ था  तो उसका केन्द्र रूपी पदार्थ, (अत्याधिक घनत्व(infinite density) का, अत्यंत छोटा बिन्दू(infinitesimally small ))कहाँ से आया?
  2. स्टडी स्टेट थियरी के अनुसार कोई बिग बैंग नहीं हुआ था,  अगर बिग बैंग नहीं हुआ था तो पूरे ब्रह्मण्ड में पाया जाने वाला तापमान  जो  आर्नो पेन्झियास और रॉबर्ट विल्सन  के टेलिस्कॉप से 2.700 कल्विन निश्चित हुआ है वह ताप कहाँ से आया?  
  3. डॉ जयन्त नार्लीकर और डॉ फ़्रेड होईल के सिद्धान्त के अनुसार ब्रह्मण्ड फ़ैल नहीं रहा है, हमें आकाश गंगाओं को दूर जाने का भ्रम हो रहा है क्यो  कि हमार पास उस दूरी को मापने के जो यंत्र हैं, वह क्रमश: सिकुड़ते जा रहे हैं।क्या यह थियरी सही है?
  4. भौतिक विज्ञान के नियम स्पेस टाईम पर आधारित है अगर  स्पेस टाईम बिग बैंग के साथ ही उत्पन्न हुआ तो उसके पहले की स्थिती को किस आधार पर समझा जाये?
  5.  अगर समय और काल  का जन्म बिग बैंग के साथ/बाद हुआ हो तोउसके पहलेशब्द का गलत नहीं है?
  6. अगर सारी वस्तुएं ब्रह्मण्ड में स्थित है तो ब्रह्मण्ड खुद किसमें स्थित है?
  7. अगर विशाल काय तारों से लेकर सुक्षम जीवाणु तक सबका अन्त निश्चित है तो प्रकृति कहो या सर्जनहार  का, इन सब को बनाने के पीछे क्या उद्देश्य है?
  8. अनुमानित बिग क्रंच जो लगभग १० खरब वर्ष बाद होगा, क्या वह निश्चित है कि होगा ही क्यों कि बिग बैंग के समय और बाद में पदार्थ और प्रतिपदार्थ के मिलन से जो विस्फ़ोट हुए हैं है, उसमें बहुत सारा पदार्थ नष्ट हो चुका है, तो  क्या फ़िर से  बिग बैंग हो पायेगा? और अगर नहीं हुआ तो क्या ब्रह्मण्ड की समाप्ति हो जायेगी, जहाँ करोड़ों तेज प्रकाश मान तारें हैं, उसकी बजाय सर्वत्र अंधकार छा जायेगा?

 

 

 

 

Advertisements

30 Responses to “ब्रह्माण्ड की उत्पति के सिद्धांत पर कुछ सवाल ?”

  1. उन्मुक्त said

    आपके सवाल मुश्किल भी हैं और इनका जवाब हिन्दी में दे पाना और भी मुश्किल है। निम्न दो किताबें बहुत अच्छी हैं और आपको इनका जवाब इनमे मिल जायगा।
    1. The first three minute by Steven Weinberg
    2. The collapsing Universe by Issac Asimov
    बहुत से लोग A brief history of time by Stephens Hawking के बाारे में कहते हैं पर मुझे यह किताब अच्छी नहीं लगती, कुछ दार्शनिक ज्यादा लगती है।

  2. बहुते टेकनिक्ल प्रश्न पूछे हैं, सागर भाई. हम तो मछली पकडने चले..हमारे बस का नही है….

  3. सागर जी, अगले अंक मे मै आपके सारे तो नही कुछ सवालो का जवाब देने की कोशीश करुंगा

  4. […] सागर जी क्या ख्याल है,  आपके प्रश्नो की सुची कम हुयी या और बढ गयी ?________________________________________________________ […]

  5. rishabh said

    What is Einstein’s theory of relativity

  6. kumar ganesh said

    we cannot understand..universe is infinite…no one can reach there….energy conservation law …mass conservation law its ameging……

  7. agar aap adhyatma me wishwas rakhte hai to apke sare ques. ka jawab mil jayega .

  8. maddy said

    Ans in hindi language..
    1st wala qus achha h..
    Qus – agr big bang hua tha to kendra rupi padarth kaha se aya..

    Ans – isko samjhne ke liye mere khayal se apko quantum phy ka gyan hona chaiye. Me apko btane ka prayas krta hu.. Hum is dunia me jo bhi chiz dekhte he wo parmadoo se bani hoti hai. Har ek bastoo parmadoo se bani hai. Jo bhi chiz hum dekh sakte hai ya mehsus kar sakte hai. wo har ek chiz parmadoo se bani hai.. Parmadoo humare liye atyant chote hote hai. Humare liye inko dekhna muskil hota hai.. Ab hum bat karte hai sab-parmadoo ki, ye parmadooyo se bhi chote hote h.. Inko hum keh sakte h ki ye parmadoo ke bhi parmadoo hote h.. Or inko dekhna humare liye or bhi muskil hota h.. Inki ek prakrati (natur) hoti hai. Ki ye apni jagha se gayab ho jate h or dusri jagha prakat ho jate.. Ye apni ek jagha se gayab isliye hote hai taki dusri jagha par prakat ho paye.
    .
    .
    – YE HI APKA ANS H.. sab-atm pehli jagha se gayab ho kar dusri jagha par aaya or usme big-bang hua or apko is bat par bharosha karna padega ki hum or ye puri dunia ye sab galaxy ek itne chote sab-aton se bane hai.. Or scientest schrodinger ki equation bhi quantum mechenics me inhi sab bato ki or ishara krti hai ki ek atom ek hi sameye (time) me ek se adhik jagha par reh sakta h OR ek se adhik (jyada) atom ek hi samaye (time) me ek jagha (sthan) par reh sakte h..

  9. maddy said

    Mere liye 4th number ka qus bahut intrastsing hai..
    .
    Qus- agr space time big-bang ke sath hi utpanna hua tha to uske pehle ki sthiti ko kis adhar par samjha jaye?

    Ans –
    isko me apne tarike(andaz) me samjhata hu.. isko hum mathematics se samjh sakte hai..
    9, 8, 7, 6, 5, 4, 3, 2, 1, 0,
    ap in later ko pehchante hai.. Inme lagbhag sab ka matlab jante hai..
    Ex.. 9 or sabhi aanko ka use kisi vastoo ya koi chiz ki sankhya ko darshane ke liye kiya jata hai..
    .
    Sorry.. par(but) aap sayad ye nahi samjhte ki zero ka use kis chiz ya kitni bastoo ko darshane ke liye kiya jata hai..
    .
    Sochiye ki antriksha(space) me matra 3 galaxy (akash-ganga) hai ab ek galaxy ko kam krde to 2 galaxy bachengi.. Or ab ek galaxy ko or hatade to 1 hi galaxy bachegi.. Fir ab us 1 bachi hui galaxy ko or kam krde to 0(zero) galaxy bachi matlab “kuch nahi” ek dum indehra(dark black)

    Hume big-bang ke pehle ki sthiti ko 0(zero) ke adhar par hi samjhni hogi jiska matlab hai.. “kuch nahi” yaha par tab time bhi zero tha..

    • भाई साहब कुछ भी नहीं मतलब आप 0 बोलते हो तो आप बताओ जी 0 मे आप बोलते है की डार्क ब्लैक था जो की 0 के होने का सबूत आप ही देते हो 0 मतलब कुछ भी नहीं , अब आप को मेरा सिद्धांत बताता हु . आप मैथमेटिक्स मे समझते हो तो समजो १+१= २ , मतलब २ चीजोंके मिलनेसे भी १ ही अंक मिलता है , पर आपके रूल्स से वो २ अलग यानि १ और १ होगा . और उन्ह दोनों के दो अलग अलग अर्थ निकलेंगे . वही जब आप . १-१=0 होगा जब यहाँ 0 मिल रहा है वो भी १ अंक मिलता ही है . इस सिद्धांत से आप डार्क ब्लैक को भी १ अंक मानकर चलो . अब बिग बंग जो डार्क ब्लैक मे हुवा ब्लास्ट . तो भाई आप अंतरिक्ष मे जाओ वह एक पताका फोड़ो और देखो 0 यानि डार्क ब्लैक से कितनी आकाश गनए मिलती है , स्वाभाविक है आप कहोगे की बहोत ज्यादा प्रेशर चाहिए . पर आपके बिग बंग का सिद्धांत है की वो बहोत ही छोटा (.) डॉट था . उसमे इतना प्रेशर कहा से उत्त्पना हुवा . यदि इतनी बड़ी मात्र मे चीजे भर आई तो आई कहा से . क्यूंकि अंतरिक्ष मे कोई यानि वैक्यूम होता है जिसमे कुछ हवा भी नहीं होती , जबकि गति की ऊर्जा मे हवा होती है तो हवा कैसा से आई . यदि आप वैक्यूम की जानकारी रखते हो तो तो उसमे किसी प्रकार से हवा नहीं होती . तो आप भाई थोडासा मैथमेटिक्स से बहार आवो और अंतरिक्ष मे देखो आप को २ चीजे दिखेगी एक कुली जगह और एक आकर रुपी ग्रह तारे . यही सिद्धातं है . दोनों पहलेसे ही थे . और आपके ब्लैक डार्क चीज को ऊर्जा को लेना कहा जयते है देना नहीं . ब्लैक मे प्रकश कीचकर खत्म होता है नाकि ब्लैक से प्रकश उत्त्पन होता है .

      • Neeraj said

        आपके अनुसार बिग बैग से पहले स्पेस था भाई साहब आप ये बताओ की स्पेस कहा से आया

      • E=MC2
        OR
        IF X = (m1+m2+m3+m4+mn);
        (m1+m2+m3+m4+mn) = X;

        Samajh neki koshish karo.,
        x is a black hole, and (m1+m2+m3+m4+mn) is univers derived from bigbang., the explogion of Supermassive bLACK HOLE.., oKK.,
        One day the remaning part of that super massive black hole will attract hole univers and makes . partical.,
        and by the way there is a creator who done this., and he will again make it as it is.,

      • no more mistakes said

        Neeraj said

        6, अक्टूबर 2015 at 9:25 पूर्वाह्न
        आपके अनुसार बिग बैग से पहले स्पेस था भाई साहब आप ये बताओ की स्पेस कहा से आया

        भाई वैदिक थ्योरी अनुसार दुनिया में ३ चीजे अनादि है , ईश्वर प्रकृति तथा आत्मा(जीव)

        और रही बात आकाश की तो स्पेस की तो स्पेस प्रकृति का मटेरियल है जो पहलेसे अनादि है ीासको बनने वाला कोई नहीं यह कहासे अत जाता ही नहीं क्यूंकि यदि स्पेस बना कहोगे तो गलत हो जायेगा फिर से क्यूंकि स्पेस बनाने वाला कौन और स्पेस बना तो वो स्पेस कहा से आया यही सवाल उठाते है जो की गलत प्रश्न बन जायेगा भाई इसीलिए वैदिक थ्योरी अनुसार स्पेस पहलेसे ही मौजूद है इसको बनाने वाला कोई है ही नहीं कारन का कारन कोई होता ही नहीं . स्पेस अनादि है जिसका न जन्म हो न ही अंत उसको अनादि कहा जाता है |

        http://www.vaidicscience.com/index.php?q=gallery

        इस लिंक को ओपन करके सारे सवाल के जवाब सुनलो तथा बिग बंग का बहुत दिमाग से निकल लो मूर्खता पूर्ण भ्रामिकता कदापि अनादर ग्रहण न करे |

  10. JAI PRAKASH MAURYA said

    Brothers…
    .
    Que. Pahle anda(egg) aaya aaya ya murgi(hen)

    • भाई अंडा या मुर्गी
      तो बेशक मुर्गी ही है . क्यूंकि अंडा खुदको उबा नहीं सकता नहीं उसमे खुदको बना सकता है , और नहीं अंडे को यह सब करने की बुद्धि न ज्ञान है .
      जब की मुर्गी एक विकसित जीव है , और मुर्गी एक अंडा उत्त्पन कर सकती है और उसको उबा कर बच्चे पैदा कर सकती है , उसमे उतनी क्षमता और ज्ञान है . अब आप कहोगे की मुर्गी आई कहासे तो उसको आप सुक्ष्म जीवो का या सुक्ष्म वसुतयोंकी संगृहीत चीज समज सकते है जैसे इंसानी शरीर मई भी अनेक पेशीय है . वैसे ही . और जिस सुक्ष्म कीजोंसे विकास हुवा वैसे ही अंडा देने का विकास भी मुर्गी मे हुवा

  11. JAI PRAKASH MAURYA said

    samai (time) kya hai? Kya samai ki utpatti ki ja sakti hai? Hum mapan unhi chijo ka kr sakte hai jo chije dravya(matter) hai jabki time dravya nahi hai fir v hum time ko moolrashi me gadna kerte hai aisa kyo? Tab to hume sukh – dukh; har jeet ko v mulrashi man leni chahiye?

    E -mail:-jaiprakashkushwaha63@gmail.com

  12. VIRENDER SHARMA said

    ACC TO MY FIRST CONCEPT:-“HUAMAN IS FLIGST;WITHIN HIS SIGST”
    The main reason not to understand the illusion of this universe is human thinkings always along with him.Try to concentrate on such a thing which is not exist in this universe,then you will able to know what is this universe.

  13. aryananuj said

    1. big bang einstien ki theory of reletivity ko bhi
    consider karta hai . jiske according explosion hone
    se pahle na space tha na time tha or kuch nahi tha
    smiksha:- jab space nahi tha to explosion kha
    hua ? iska jwab na to einstien ke pas tha or na hi
    cosmologist ke paas hai
    2.big bang kahta hai ki explosion apne aap hua .
    samiksha:- Newton first law of motion kahta hai ki
    bina external force ke koi chij motion me nahi aati
    to fir itna bda explosion bina external force ke
    kaise ho gya ? iska jwab big bang theory ke paas
    nahi hai
    3. big bang ke anusar pahle kuch nahi tha
    smiksha : – to fir explosion kisme hua ?
    4. kya matter pahle se tha ?
    smiksha:- yadi matter pahle se tha to fir islam ke
    anusar to kewal allah hi etrnal hai . ye baat jhooth
    sabit ho jati hai…

    • only for ur quction.,

      1 ) explosion honeke liye vacume ki jarurat nii hoti.,
      2) according to Newtons first low, bigbang apne aap nii huwa use external force kisi ne diya it means koi tha jisne ye kiya.,
      3)pahle kuch nii tha fir bhi explosion huw, matlab kuch banaya gaya.,
      4) nii matter pahlese nii tha use bhi banaya gaya.,
      conclusion: according to Big bang and islaam critanity its prove that the allah is the creator of Univers., okk.????

      • no more mistakes said

        bhai shahab apke allha hi nahi hai allaah hone ka wajood hi nahi kyunki allaah khud na nirakar hai na sakar hai na koi tatva hai na koi padarth hai na sagun hai na nirgun hai aur allaah me kabhi koi badlav hota nahi hai , is hisab se allha khudse koi chij banata hi nahi aur kisi aur cchij se aur chij banayega to allah pahese akela tha hi nahi allahs ke sath prakruti matter bhi hoga iske anusar quran jhitth siddha hoga kyunki quran khudh hi kahta ai ki allah ke siva pahle kuch bhi na tha aur ishwar usko kaha jata hai jo khud me parivartan na kare ya na ishwar me parivartan hota hai jo parivartit hoga wo nayay kari siddha nahi hota, yaha par hi islam phas chuka hai to big bang door ki baat hai islma me.

  14. pradeep said

    beyond of our imagination everything.space and time never begins and end.

  15. ३. यदि पृथ्वी सिकुड़ रही है तो निशचित रूप से ये हलचल आकाशगंगा के भी साथ हो रहा है यदि पृथ्वी का सिकुड.ना भ्रम है तो निश्चय ही उसमे भी परिवर्तन भ्रम ही होगा क्योकी दोनो के उत्पत्ति के सिद्धान्त समान है

  16. अक्षय said

    Big bang theory ke hisab se ek bindu tha jiske phatne se bramhand ka nirmad hua or uske andar se ye atom neutron proton aaye.. mera question hai ki ye bindu kaha se aaya is bramhand me

  17. vishal bavne said

    मुझे ऊपर दिये प्रशनो ने काफी प्रभावित किया ।

    ये सच है कि बिग बैन्ग अभी भी रहस्यमय है ओर अनंत समय तक बना रहेगा ।

    क्योकि हम अपने ब्राहमाण्ड के बारे ही नही जानते हैं ।
    हमारा सोरमण्डल जहा हम रहते है।

    अगर कोई मेरी पोस्ट पढ रहा/रही तो मेरे सवाल के जवाब जरुर दे??

    क्या ये संभव नहीं हम बिग बैन्ग को एक पेड़ के बीज से तुलना नही कर सकते •••••••
    जिस तरह एक बीज पुरे पेड़ को आकार देता है
    ओर बढते जाता है।

    उसी प्रकार जिस तरह महाविस्फोट सिधान्त मे कहा गया है।

    पर मेरा प्रशन यह है कि क्या यह केवल एक ही है?
    क्या यह एक ही बीज अंकुरीत हुआ है तो बाकी सब कहाँ है।

    क्या उनका जन्म लेना बाकी है?????

  18. Mohit mishra said

    To kya universe, bigbang se iski utpati nahi hui to universe ka pta kaisi chala…

  19. puneet said

    3ko chhodkar in sab ka ans to mere pas hai

  20. puneet said

    Big bang ke sare sawal mai dhund liye hai
    Or mai sure bhi hoon
    Ki mai shi
    Or agli bat
    Time infinite hota hai

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: