॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

“क्रोकोडाईल हंटर” स्टीव इरविन नहीं रहे!

Posted by सागर नाहर on 4, सितम्बर 2006

आज की सबसे दुर्भाग्यपूर्ण खबर यह है कि डिस्कवरी, नेशनल ज्योग्राफ़िक और एनिमल प्लेनेट चैनल पर मगरमच्छों और अजगरों के साथ खेलते और उन्हें पकड़ते दिखते ऑस्ट्रेलिया के पर्यावरणविद स्टीव इरविन का एक जहरीली मछली के काटने से निधन हो गया है। स्टीव की बहादुरी के चलते उन्हेंक्रोकोडाईल हंटरभी कहा जाता था।

डिस्कवरी के लिये अनेक फ़िल्में बनाने वाले इस बहादुर को साँपो और मगरमच्छों से कभी डर नहीं लगा परन्तु ग्रेट बेरियर रीफ़ के पास समुद्र में हो रही एक शूटिंग के दौरान उन्हें एक छोटी सी स्टिंगरे नामक जहरीली मछली के काट लेने के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया परन्तु स्टीव को बचाया नहीं जा सका। नीचे दिये चित्र में स्टिव अपने बच्चे और मगरमच्छ के साथ खेल रहे हैं, एक बार उन्होनें अपने छोटे से बच्चे को अजगर के बाड़े में छॊड़ दिया था इस वजह से उनकी बहुत आलोचना भी हुई थी।

हिन्दी चिट्ठा जगत की ओर से इस बहादुर को हार्दिक श्रद्धान्जली। steve

steve1

with baby

Advertisements

9 Responses to ““क्रोकोडाईल हंटर” स्टीव इरविन नहीं रहे!”

  1. नीरज दीवान said

    मुझे नहीं पता था कि यह वही बंदा है. डिस्कवरी तो देख ही लेता हूं कभी-कभी. स्टीव इरविन जैसे लोग भी लाजवाब शख्सियत के मालिक होते हैं. मुझ जैसे बहुत-से लोग यूं ही रोज़ की ज़रूरतों में ऐसे उलझे रहते हैं लेकिन कुछ लोग दुनिया के किसी खास मकसद के चलते यादगार योगदान दुनिया को दे जाते हैं.
    स्टीव इरविन को मेरी श्रद्धांजलि. जानकारी के लिए सागर भाई को धन्यवाद

  2. इनके प्रोग्राम बहुत अच्छे रहते थे – दुख हुआ।

  3. Tarun said

    ये तो वाकई में दुख की खबर है बहुत ही दिलेर बंदा था….स्टीव की कमी जरूर खलेगी

  4. Pradeep said

    Really sad news and thanks for posting on this.

  5. kali said

    Very Sad news. Everytime i saw him with those crocies it use to bring my heart in my mouth. Very sad to have died off of a sting ray bite.

  6. हमारी भी हार्दिक श्रद्धान्जली।

  7. खबर सुन कर दुख हुआ था, हिन्दी चिट्ठे पर इस घटना का उल्लेख देख कर अच्छा लग रहा हैं. हालाकि खतरनाक जानवरों के बीच उनके बच्चो से खिलवाड़ मुझे पसन्द नहीं थे.
    एक बहादुर को हमारी श्रद्धांजली.

  8. डिस्कवरी पर कई बार इनको देखा था । बच्चे वाली अंतिम फोटो खतरनाक है ।

  9. कोटमी गांव में मगर-मित्र बाबाजी से मिल कर स्‍टीव इरविन याद आए.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: