॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

यादें बचपन की

Posted by सागर नाहर on 29, मार्च 2007

लो फिर से मौसम में गर्मी गई, यहाँ हैदराबाद का तापमान २५ डिग्री से उपर जाने लगा है। दोपहर को सड़कें सूनी सूनी हो जाती है। तेज गर्म हवाओं के साथ धूलड़ने लगी है अभी से। पर देता हूँ बच्चों को चैन नहीं, धूप हो या छांव उन्हें खेलने से रोक पाना बड़ा मुश्किल काम है। आज बैठे बैठे अचानक ही बचपन की गर्मी की छूट्टियाँ याद गई। अंतिम परीक्षा के दिन पर्चा हल होते ही मानो कैद में से छूटे। कापियाँ किताबें आले में धर कर खेलने लग जाते (वैसे भी उन्हें पढ़ते थे ही कब ?)

आगे यहाँ… पढ़ें

Advertisements

7 Responses to “यादें बचपन की”

  1. पढ़ आये आगे…मजा आया. 🙂

  2. बाय पास करने का तरीका मस्त है 🙂

  3. नाहरजी,
    सच में बडे ही अच्छे तरीके से आपने अपने अनुभव प्रस्तुत किये हैं । आपकी विनम्रता के हम भी कायल हो गये ।

    मुझे तो क्रिकेट खेलने के बाद, घर के बरामदे के बाद सीधे स्नानागार में धकेला जाता था । क्योंकि सबको पता था कि नालियों में से गेंद तो अवश्य उठायी होगी । कभी कभी किसी छोटे बच्चे को भी फ़ुसला कर नाली में से गेंद निकलवाने का पाप किया है । पडोसियों के बल्ब भी खूब तोडे हैं ।

    आप अपनी संगीत रूचि पर कभी कोई पोस्ट लिखिये । जैसा कि पता चला है आप श्री कुन्दन लाल सहगल और तलत महमूद साहब के काफ़ी मुरीद हैं । कभी उसी पुराने संगीत के दौर पर लिखियेगा ।

    साभार,

  4. rajlekh said

    sagar chand naharji
    aabhee aapka blogg dekha achha lagaa. aapke kahe anusaar maine hindi font laod kiya par kaam kar nheen paayaa. iseliya ese hee aapko sandesh bhej rha hoon. aapko parhhna acchaa lagata hai.

  5. afloo said

    सागरजी, दिल्ली में ४० डिग्री था,आज-पता चला।

  6. हम्म…ये नया तरीका मुम्बई ब्लॉग–>लोकमंच से जो आया सही है। थोड़ा लिख कर फॉरवर्ड कर दो। 🙂

    खैर आप कहीं लिखो हम तो वहीं पढ़ने जाएंगे।

  7. […] जवाब में सागर भाई नें अपनी पोस्ट का लिंक थमा दिया। पहले हम उस लिंक की […]

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: