॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

आईये अपने जीमेल को और बेहतर बनायें

Posted by सागर नाहर on 20, सितम्बर 2007

make your gmail more better

Hindi Blog Aggregator

जीतू भाई के जीमेल पर लिखे लेख को आप सब ने पढ़ा होगा, जीमेल में क्या क्या सुविधायें है; उन सुविधाओं कि अच्छी जानकारी यह लेख देता है। अब चुंकि जीमेल से हम अच्छी तरह से परिचित है। अब उसके बारे में कुछ ना कहते हुए सीधे सीधे विषय पर आते हैं।

फॉयर फॉक्स में एक छोटा सा (212Kb का) प्लग इन इन्स्टाल करने से जीमेल में अपने आप कई सुविधायें जुड़ जायेंगी। आईये फोटॊ देखते हैं

नीचे दिये फोटो को ध्यान से देखिये तीन अलग अलग तरह के अटेचमेन्ट अपने फोरमेट में दिख रहे हैं। पहली मेल में अटेचमेन्ट में वर्ड फाईल है, दूसरे में जेपीजी और तीसरे में म्युजिक की (Mp3)।

जब हम माऊस का तीर को इन अटेचमेन्ट के पास ले कर जाते हैं तो फाइल का नाम और बाकी की जानकारी दिखने लगती है।

1

अब देखिये इस दूसरे फोटो को मेल में क्या लिखा है सब कुछ मेल को खोले बिना ही दिख रहा है। बस मेल पर राईट क्लिक कीजिये, आपको पता चल जायेगा कि यह मेल पढ़ने लायक है या नहीं, अगर नहीं तो trash पर क्लिक कर इस मेल को कचरे के डिब्बे में डाल सकते हैं।

2

आईये अब इस तीसरे फोटो को देखिये| आपको जो मेल मिलती है, उसे आप अलग अलग फिल्टर बना कर रख सकते हैं। इस बारे में जीतू भाई अपने लेख में कहते हैं

फिल्टर (छंटाई)

अब आपके पास इमेल तो अलग अलग जगह से आ गयी, लेकिन आप चाहते है कि जीतू के यहाँ से आई इमेल एक जगह संचित हो जाए, इमेल बॉक्स को ना घेरे। तो उसका भी इलाज है। आप किसी भी आने वाले पते, विषय, पाने वाले पते अथवा सामग्री के आधार पर फिल्टर बनाकर, उस इमेल को वांछित जगह पर पहुँचा सकते है। पूरी जानकारी यहाँ दी गयी है।

3
और भी बहुत सी सुविधाय़ें है जो फिलहाल मुझे पता नहीं चली है, आप को पता चले तो टिप्प्णी के रूप में बता सकते हैं।

अपने जीमेल में यह सुविधा कैसे जोड़ें।

सबसे पहले इस पेज को फोयर फॉक्स में खोलें और नीचे लिखे install Now पर क्लिक करें। जिससे एक खिड़की खुलेगी और आपको इन्स्टाल के लिये पूछा जायेगा आप इन्स्टाल कर लें और फॉयरफॉक्स को रिस्टार्ट कर लेवें।

अगर आप IE या अन्य किसी ब्राऊजर में इस पोस्ट को पढ़ रहे हैं तो नीचे लिखे install Now पर राईट क्लिक कर save link as पर क्लिक कर डेस्क टॉप पर सेव कर लेवें। यह winzip फाईल जैसी दिखेगी।

Install Now

अब फॉयर फोक्स खोलें और उसे थोड़ा छोटा कर डेस्क टॉप पर दिख रही विनज़िप फाइल को खींच कर फॉयर फॉक्स ब्राऊजर की खिड़की में ला कर छोड़ देवें, इन्स्टाल शुरु होगा या फिर File- Open File- desk top- better_gmail__45_1.0__45_fx__43_sm पर क्लिक कर लें। इन्स्टाल शुरु हो चुका है, इन्स्टाल होने के बाद ब्राऊजर को रिस्टार्ट के लिये पूछा जायेगा, आप रिस्टार्ट कर लें।

रिस्टार्ट होने के बाद अब आप अपना जीमेल खाता खोलें और देख लीजिये ये सुविधायें आपके जीमेल में जुड़ चुकी है।

Technorati Tag: , , ,

चिट्ठाजगत Tag: make your gmail more better, gmail, जीमेल, अपने जीमेल को बेहतर बनायें Learn-Hindi, Hindi-Blogging, Hindi, Hindi-Blog, हिन्दी-खोज, हिन्दी-ब्लॉग, हिन्दी-चिट्ठाकारिता, सफल-हिन्दी-चिट्ठाकारिता, प्रसिद्ध-चिट्ठे, प्रसिद्ध-हिन्दी-चिट्ठे, चिट्ठा-प्रचार, चिट्ठा-प्रसार, जाल-प्रचार, जाल-सफलता

Advertisements

12 Responses to “आईये अपने जीमेल को और बेहतर बनायें”

  1. prabhakar said

    इस जानकारी के लिये धन्यवाद!

  2. अच्छी जानकारी है, सागर भाई.

  3. सागर भाई , अच्छी जानकारी दी। शुक्रिया ..

  4. yunus said

    सागर भाई आप भी ई पंडित के दूसरे रूप ही हो ।
    मज़ा आ गया ।
    इत्‍ती अच्‍छी जानकारी । अच्‍छा अब ज़रा लोगो बनाना सिखा दीजिए गुरूजी ।

  5. Shastri JC Philip said

    प्रिय सागर

    यह बहुत काम की बात बताई. मैं फायरफॉक्स का प्रेमी हूं एवं तमाम तरह के टूल्स जोड रखे है. एक और काम की चीज मिल गई आप के कारण

    — शास्त्री जे सी फिलिप

    प्रोत्साहन की जरूरत हरेक् को होती है. ऐसा कोई आभूषण
    नहीं है जिसे चमकाने पर शोभा न बढे. चिट्ठाकार भी
    ऐसे ही है. आपका एक वाक्य, एक टिप्पणी, एक छोटा
    सा प्रोत्साहन, उसके चिट्ठाजीवन की एक बहुत बडी कडी
    बन सकती है.

    आप ने आज कम से कम दस हिन्दी चिट्ठाकरों को
    प्रोत्साहित किया क्या ? यदि नहीं तो क्यो नहीं ??

  6. शुक्रिया!! काम की चीज है!

  7. neerajdiwan said

    हम्म्म्म.. फायरफॉक्स से जीवन आसान हो गया.. जीमेल पर आपने जो टोटके सुझाए हैं उससे परलोक भी सुधर जाएगा.. मुझे तो यह आपका शीर्षक ऐसा लागै है मानो स्वेट मार्डन की कोई पुस्तक हो..

    आइए अपने जीमेल को बेहतर बनाएं.. जीवन को बेहतर बनाएं.

    अरे भई. मौज लिए बस्स.. जानकारी देने के लिए आभार.

  8. मेरे लिए तो यह सब ‘एलीस इन वण्‍डरलैण्‍ड’ जैसा ही है । मैं तो केवल टाइप करना जानता हूं । अब न तो इतना समय है और न ही इतना धैर्य कि यह सब सीख सकूं । हां, मेरा बेटा दो दिन बाद आ रहा है, उसे बताऊंगा और उससे समझने की कोशिश करूंगा । आप उदारतापूर्वक और सदाशयतापूर्वक जानकारियां बांट रहे हैं और मैं कुछ भी नहीं कर पा रहा हूं । अपने आप पर गुस्‍सा आ रहा है ।

    ईश्‍वर आपको लम्‍बी उम्र दे ।

  9. Arjun Dev said

    You have mentioned Jitu, Jitu so many times in your blog. Who is Jitu by the way?

  10. भाई, हम तो IE वापरते हैं, उसमें करके देखते हैं फ़िर आपको अलग से धन्यवाद भेज देंगे… अभी 20% धन्यवाद रख लीजिये, बाकी अगली किस्त में…जब यह जुगाड़ IE में चल जायेगी…तब

  11. क्या बात है, सांई! बहुत बढ़िया जानकारी दी है.

  12. फ़ायरफ़ॉक्स ब्राउसर है ये आज ही पता चला 🙂
    चलिये आई ई के लिये भी देखता हूँ। गूगल बाबा सबके साथ न्याय करते हैं।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: