॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

एक फिल्म निर्देशक भी अब चिट्ठाजगत में

Posted by सागर नाहर on 17, दिसम्बर 2007

नदिया के पार ( सचिन -साधना वाली) और बाबुल, बंधन बाहों का और ससुराल जैसी फिल्मों के निर्देशक, घर का चिराग, आसरा और दोस्ती जैसी फिल्मों के लेखक तुम्हारे बिना और आँसू बन गये फूल जैसी कई फिल्मों के गीतकार गोविन्द मुनीसजी ने भी चिट्ठा लिखना शुरु किया है। उनके चिट्ठे का नाम है  मुनीसनामा

आदरणीय मुनीसजी का स्वागत है।

Advertisements

9 Responses to “एक फिल्म निर्देशक भी अब चिट्ठाजगत में”

  1. वाह। बढ़िया है।

  2. जानकारी के लिए धन्यवाद।

  3. yunus said

    नयी जानकारी । कहां से खोज लाए भाई । स्‍वागत है मूनिस जी का

  4. Nahar ji kya aap bata sakte hai ki apne blogs mein slideshow kaise lagayege?

  5. balkishan said

    मुनीसजी का स्वागत का स्वागत और आपका धन्यवाद.

  6. खुशी हुई जान कर.

  7. Nahar ji aaj bahut dino ke baad ek baar phir upne upar aapke dwara likhi post “एड सेन्स विज्ञापन पर क्लिक कीजिये ना प्लीऽऽऽऽज ” padha, aur hotho par hasi tair gayi phir se

  8. स्वागत है श्रीमान

  9. मैँ भी कितना पागल हूँ इतने पुराने ब्लाग के लिए टिप्पणी लिख डाला

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: