॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

ये कब सन्यास लेंगे?

Posted by सागर नाहर on 6, नवम्बर 2008

कोई इन्हें क्यों नहीं पूछता कि ये कब सन्यास लेंगे?

अर्जुन सिंह, जिनसे बिना सहारे चला भी नहीं जाता।
arjun-sinh1
नारायण दत तिवारी, जिन्हें खड़ा होने के लिये भी सहारा लेना पड़ता है।
nd1
(चित्र को बड़ा देखने के लिये उस पर क्लिक करें)

इस पोस्ट को भी देखें
यह तो कमाल हो गया

चित्र डेक्कन क्रोनिकल और हिन्दी मिलाप से साभार:

Advertisements

22 Responses to “ये कब सन्यास लेंगे?”

  1. Ranjan said

    अर्थी में.. सागर जी..

  2. अजी उनकी शारीरिक क्षमता पर क्यों जाते हैं आप?
    उन्हें कौन सा मल्ल युद्ध लड़ना है.

  3. कम्बख्त said

    क्या नेता कोई काम करते हैं? बढे से बढ़ा हरामखोर भी नेता बनकर फलां काम कैसे करें पर लिखा लिखाया भाषण पढ़ देता है. यदि कोई भाषा नही भी आये तो उसे रोमन (इटालियन) में पढ़ सकता है.

    रिटायर तो वह हो जो कोई काम करे, जब आदमी नाकारा होने से काम चल जाये तो चाहे घर में बैठे या मूत्रालय में, कहीं भी रहें.
    भूल सुधार
    माफ कीजिये, मंत्रालय की जगह मूत्रालय लिख गया, लेकिन जिस तरह से वहां बैठकर दिमाग की गंदगी बिखेरते हैं, इसलिये मंत्रालय को मूत्रालय कहना भी बुरा नहीं लग रहा.

  4. यह तो भगवान के हाथ में है, हम और आप क्या कर सकते है.
    अर्जूनसिंह तो भारत के इतिहास को पूरी तरह भ्रष्ट करने के बाद ही रिटायर होंगे.

  5. कम से कम बाल ठाकरे इन जैसे नहीं हैं… 🙂 🙂

  6. कम्बख्त said

    अर्जुन तुम संघर्ष करो
    हम तुम्हारे साथ हैं

  7. […] फरमाया कम्बख्… on ये कब सन्या…सुरेश च… on ये कब सन्या…संजय बे… on […]

  8. Abhishek said

    इस अर्जुन को तो भगवान् भी रिटायर नहीं कर रहे… पता नहीं अभी क्या-क्या भरा है इस युवा के दिमाग में !

  9. SHUAIB said

    शर्म इनको आती नहीं मगर हमें ज़रूर आती है।

  10. Poonam said

    अरे वाह नाहरजी .यह तो वो नेता हैं जिन्होंने जनहित और जन सेवा के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया .देखिये इतने शारीरिक कष्ट के बाद भी यह देश सेवा में जुटे हैं और आप चाहते हैं यह रिटायर हो जाएँ. ऐसे एहसानफरामोश तो न बन जाएँ हम !!!!!!

  11. एक नारायण (दत्त तिवारी) है और दूसरे पार्थ (अर्जुन सिंह), ये लोग देश में महाभारत कराए बिना जाने वाले नही।

    ऊपर वाला भी इनको ऊपर बुलाकर टेंशन नही लेना चाहता। इसलिए जितने दिन चल रहे है, चलने दीजिए।

  12. अब चलते चलते क्या संन्यास लेना जी..बस, निकलने का टाईम हुआ ही समझो!!

  13. mukesh said

    आप को इन को सन्यास दिलवाने मैं क्या मज़ा आता है

    मुकेश

  14. A S MURTY said

    अरे यह क्या संन्यास लेंगे ? इन्हे तो “शान्ति स्थल” और “शक्ति स्थल” के निकट की जगह की तलाश भी तो करनी है। पैर नही हैं पर फिर भी पैरों पर खड़े रहने की कला कोई इनसे सीखे। क्रमांक ६ पर लिखी “कम्भक्त” जी की टिपण्णी बोहत अच्छी लगी।

  15. भगवान के, एकता कपूरीय, धारावाहिकों के पात्र, जो हमें जीने नहीं देंगें और ‘वो’ इन्हें मरने नहीं देगा।

  16. thank you for ur comments,
    aap ka blog bahut khoobsurat laga, kya isko banane k liye, html ki high level knowledge jaroori hai.
    agar aap orkut user hain to pls mujhse baat karein.
    warna aap call kar sakte hain 9889206089, read my profile.
    mera kavi sambhelan kafi sundar dhang se poorna hua hai, jald hi mai khud poori kavita aap ko likh bhejunga..
    apne blog ko aap ke blog ki tarah khoobsurat banana cahata hu, meri help karein..
    aur 2-3 din mein 5 nai kavitain bhi upload karne wala hu.
    accha kya bina online khud se typing kar hindi mein nahi likh sakta. maine to bahar se typing karwai thi, par jab bhi us text ko paste karta hu, vo aati hi nahi hai..

    manas

  17. बहुत अच्छा उठाया आपने । अपने ब्लाग पर मैने समसामियक मुद्दे पर एक लेख िलखा है । समय हो तो उसे भी पढे और अपनी र भी दें –
    http://www.ashokvichar.blogspot.com

  18. कुछ लोग होते हैं जो शायद मरने के बाद भी अपनी नेताई न छोडें,उपर स्थित द्वारपाल और यमदूतों तक को परेशान करते रहें इसलिये शायद भगवान भी इन्हें बुलाने मे देरी करता है।

  19. नेता हैं भइया ??????????????????

  20. Purvi Parwani said

    College ki strike yaad aa gayi , Arjun singh ki photo dekhke !!

  21. Shastri JC Philip said

    राजनीति में जो पैसा एवं प्रभाव मिलता है वह रिटायर होने पर कहा मिलेगा भईया ?

  22. patel nirav said

    Hi. your team work r very solid..&your poems are good.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: